UC News

दो मित्र की सोच हिंदी कहानी, Do mitr ki soch hindi kahani

Do mitr ki soch hindi kahani | Hindi stories

दो मित्र की सोच हिंदी कहानी : Do mitr ki soch hindi kahani, दो मित्र एक रास्ते से चले जा रहे थे पहले मित्र ने पूछा की अगर हमे बहुत सारा धन मिल जाए तो तुम क्या करोगे दूसरे मित्र (mitr) ने कहा की हमारी किस्मत में धन नहीं है हमे तो बहुत परेशानी का सामना करना होगा और जब तक भगवान (god) की दया नहीं होती है तब तक जीवन में ऐसे ही चलना होगा लेकिन पहला मित्र (mitr) तो सिर्फ एक सवाल पूछ रहा था उस पर तुमने तो कोई जवाब ही नहीं दिया है मेने तो यही पूछा था की अगर हमे धन मिल जाए तो तुम का करोगे,

Do mitr ki soch hindi kahani

दो मित्र की सोच हिंदी कहानी, Do mitr ki soch hindi kahani
Do mitr ki soch hindi kahani

दूसरा मित्र (mitr) कहने लगा की अगर ऐसा होता है तो में अपने घर को फिर से बना लूंगा क्योकि वह बहुत जगह से टूट गया है सभी के घर (home) अच्छे बने हुए है मेरा ही घर (home) टुटा हुआ है दूसरे मित्र (mitr) ने कहा की अगर तुम्हे धन मिल जाये तो तुम क्या सोचते हो पहला मित्र (mitr hindi stories) कहने लगा की अगर ऐसा होता है तो में सबकी मदद (help) करूंगा जिन्हे भी धन की जरूरत है उनकी कुछ जरूरत पूरी कर दूंगा दूसरा मित्र कहने लगा की तुम्हे अपने लिए कुछ नहीं चाहिए जबकि तुमने तो सारा धन दुसरो के ऊपर खर्च करने के बारे में सोचा है

पहले मित्र ने कहा की हम किसी की मदद करे तो बहुत अच्छा है वह किसी भी तरह की मदद (help) हो सकती है आप उनकी सेवा अभी कर सकते है उनका साथ भी दे सकते है उन्हें धन भी दे सकते है मेरे मन में यही विचार (thought) आता है वह चलते हुए काफी दूर तक आ गए थे उन्हें कुछ आवाज आ रही थी यह आवाज किसकी थी यह सुनने के लिए वह पास गए थे कुछ दुरी पर दो चोर बैठे हुए थे उनके पास बहुत सारा धन था वह कुछ बाते कर रहे थे,

जब उनकी बताए सुनी तो पता चल गया था की यह धन तो उन्होंने हमारे गांव से लिया है यह दोनों चोर जरूर हमारे गांव (village) से यह सब लाये है यह अच्छी बात नहीं है, हमे यह सब गांव वालो को वापिस करना होगा मगर दोनों को यह भी डर था की वह दोनों तो चोर है उनसे झगड़ा करना अच्छी बात नहीं होगी मगर जब गांव की बात याद आती है तो उन्हें लगता है की हमे कुछ तो करना ही होगा वह छुपकर उनकी बाते सुनते है और सोचते है की क्या किया जाए,

अभी कोई भी हल नज़र नहीं आ रहा था क्योकि वह चोर कुछ बाते भी कर रहे थे वह दो ही नहीं थे बल्कि कुछ चोर अभी आने वाले थे अगर हमने जल्दी ही कुछ नहीं किया तो वह भी आ जायँगे और हमे यहां से जाना होगा मगर किस्मत कभी भी बदल सकती है कुछ देर बाद शेर की आवाज आती है, यह सुनकर चोर भी डर जाते है तभी दोनों मित्र (mitr) उन पर हमला कर देते है मगर ज्यादा कुछ नहीं होता है शेर वही पर आ जाता है शेर को देखकर वह दोनों चोर भागने लगते है और शेर भी उनके पीछे जाता है

वह दोनों मित्र धन लेते है और गांव (village) की और चलते है तभी दूसरा मित्र कहता है की अगर हम यह धन रखते है तो मेरी परेशानी दूर हो सकती है मगर पहला मित्र (mitr) कहता है की यह अच्छी बात नहीं है यह हमारा धन नहीं है यह बात तुम जानते हो वह दोनों बाते करते हुए गांव पहुंच जाते है और चोर की बात बताते है सभी को उनका धन मिल जाता है और सभी कुछ भी हो जाते है जबकि यह ख़ुशी कही भी नहीं नज़र नहीं आती है, दो मित्र की सोच हिंदी कहानी, Do mitr ki soch hindi kahani, अगर आपको hindi stories, यह कहानी (kahani) पसंद आयी है तो शेयर जरूर करे 

Related Hindi Story :-

READ SOURCE
Open UCNews to Read More Articles